Tomato3टमाटर आमतौर पर ग्रीष्म ऋतु में होनेवाली फसल है। इसके लिए गर्म और नर्म मौसम की जरूरत है। टमाटर का पौधा ज्यादा ठंड और उच्च नमी को बर्दाश्त नहीं कर पाता है। ज्यादा रोशनी से इसकी रंजकता, रंग और उत्पादकता प्रभावित होता है। विपरीत मौसम की वजह से इसकी खेती बुरी तरह प्रभावित होती है। बीज के विकास, अंकुरण, फूल आना और फल होने के लिए अलग-अलग मौसम की व्यापक विविधता चाहिए। 10 डिग्री सेंटीग्रेड से कम तापमान और 38 डिग्री सेंटीग्रेड से ज्यादा तापमान पौधे के विकास को धीमा कर देते हैं।

टमाटर के पौधे का विकास 10 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच होता है लेकिन सबसे अच्छी वृद्धि 21 से 24 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान में होता है। 16 डिग्री से नीचे और 27 डिग्री से ऊपर का तापमान को उपयुक्त नहीं माना जाता है। टमाटर का पौधा पाला को बर्दाश्त नहीं कर पाता है और इस फसल को कम से मध्यम स्तर की बारिश की जरूरत होती है। साथ ही ये 21 से 23 डिग्री के मासिक औसत तापमान में अच्छा परिणाम देता है। ज्यादा पानी का दबाव और लंबे वक्त तक सूखापन टमाटर के फल में दरार पैदा कर देता है। अगर फल निकलने के दौरान पौधे पर अच्छी रोशनी पड़ती है तो टमाटर गहरा लाल रंग का हो जाता है।

टमाटर की किस्म – –

उन्नत किस्म – –

अरका सौरभ, अरका विकास, अरका आहूति, अरका आशीष, अरका आभा, अरका आलोक, एच एस 101, एच एस 102, एच एस 110, हिसार अरुण, हिसार लालिमा, हिसार ललित, हिसार अनमोल, के एस. 2, नरेन्द्र टोमैटो 1, नरेन्द्र टोमैटो 2, पुसा रेड प्लम, पुसा अर्ली ड्वार्फ, पुसा रुबी, को-1, को 2, को 3, एस- 12, पंजाब छुहारा, पी के एम 1, पुसा रुबी, पैयूर-1, शक्ति, एस एल 120, पुसा गौरव, एस 12, पंत बहार, पंत टी 3, सोलन गोला और अरका मेघाली।

एफ 1 हाइब्रिड – –

अरका अभिजीत, अरका श्रेष्ठ, अरका विशाल, अरका वरदान, पुसा हाइब्रिड 1, पुसा हाइब्रिड 2, कोथ 1 हाइब्रिड टोमैटो, रश्मि, वैशाली, रुपाली, नवीन, अविनाश 2, एमटीएच 4, सदाबहार, गुलमोहर और सोनाली।

टमाटर की खेती के लिए जरूरी तापमान – –

अलग-अलग चरण                                तापमान

नंबर-                                 निम्नतम       उपयुक्त       उच्चतम

  • बीज अंकुरण                         11            16-29        34
  • पौधे का विकास                     18            21-24        32
  • फल का विकास (दिन)            10           15-17         30

रात                                         18           20-24        30

  • लाल रंग का विकास                10           20-24        30

टमाटर की खेती के लिए मिट्टी के प्रकार – –

खनिजीय मिट्टी और चिकनी बलुई मिट्टी में टमाटर की खेती अच्छी होती है लेकिन टमाटर के पौधों के लिए सबसे अच्छी बेहतर जल निकासी वाली बलुई मिट्टी होती है। मिट्टी का ऊपरी हिस्सा थोड़ा बलुई और उससे नीचे की मिट्टी अच्छी गुणवत्ता वाली होनी चाहिए। अच्छी फसल के लिए मिट्टी की गहराई 15 से 20 सेमी होनी चाहिए। खारी मिट्टी वाली जमीन में अच्छे से जड़ पकड़ सके और बेहतर ऊपज हो उसके लिए गहरी जुताई जरूरी होती है।

टमाटर सामान्य तौर पर पीएच यानी अम्लीयता और क्षारीयता की बड़ी मात्रा को सहनेवाली फसल है। इसकी खेती के लिए 5.5 से 6.8 का पीएच सामान्य है। पर्याप्त पोषक तत्वों के साथ अम्लीय मिट्टी में टमाटर की फसल अच्छा होती है। टमाटर सामान्य तौर पर 5.5 पीएच वाली अम्लीय मिट्टी को सहने की क्षमता रखता है। नमक की मात्रा से रहित, हवा और पानी की पर्याप्त मात्रा को वहन करनेवाली मिट्टी टमाटर की खेती के लिए उपयुक्त होती है। ज्यादा आर्द्रता और पोषक तत्वों से रहित उच्च कार्बनिक तत्वों वाली मिट्टी इसकी खेती के लिए अच्छी नहीं होती है। वहीं, अगर खनिज पदार्थ से युक्त मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ मिल जाए तो अच्छा परिणाम देती है।

टमाटर खेती के लिए बीज का चयन –

बीज उत्पादन के बाद खराब और टूटे बीज को छांट लिया जाता है। बुआई वाली बीज हर तरह से उत्तम किस्म की होनी चाहिए। आकार में एक समान, मजबूत और जल्द अंकुरन वाली बीज को बुआई के लिए चुना जाता है। विपरीत मौसम को भी सहनेवाली एफ 1 जेनरेशन वाली हाईब्रीड बीज जल्दी और अच्छी फसल देती है।

बुआई का वक्त – –

  • आमतौर टमाटर किसी भी मौसम में होनेवाली फसल है
  • देश के उत्तरी मैदानी भाग में इसकी तीन फसल होती है लेकिन बेहद ठंडे इलाके में रबी फसल इतनी अच्छी नहीं होती है। जुलाई में खरीफ फसल, अक्टूबर-नवंबर में रबी फसल और फरवरी में जायद फसल उपजाई जाती है।
  • दक्षिणी मैदानी इलाकों में जहां पाला का खतरा नहीं होता है वहां पहली बुआई दिसंबर-जनवरी में की जाती है। दूसरी बुआई जून-जुलाई में और तीसरी सितंबर-अक्टूबर में की जाती है और इसमे सिंचाई की सुविधा का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

टमाटर की बीज और रोपाई – –

Tomato1आमतौर पर टमाटर की खेती रीज यानी ऊंचे टीले और मैदानी भाग में जुताई के बाद की जाती है। बुआई के दौरान खुले मौसम और सिंचाई की वजह से पौधा कड़ा हो जाता है। प्रति हेक्टेयर बीज दर 400 से 500 ग्राम होता है। बीज के साथ पैदा होने वाले रोग से बचाव के लिए 3 ग्राम प्रति किलो थीरम की मात्रा जरूरी होता है। बीज के इलाज में 25 और 50 पीपीएम पर बी. नेप्थॉक्सिएटिक एसिड(बीएनओए), 5 से 20 पीपीएम पर गिबरलिक एसिड(जीए3) और 10 से 20 पीपीएम पर क्लोरोफेनॉक्सी एसेटिक बेहद प्रभावकारी होता है और टमाटर उत्पादन में बेहतर परिणाम देता है।

शरद ऋतु की फसल के लिए बुआई जून-जुलाई में की जाती है और वसंत ऋुतु की फसल के लिए बुआई नवंबर माह में की जाती है। पहाड़ी इलाके में बुआई मार्च-अप्रैल में की जाती है। शरद ऋतु के लिए फसलों के बीच अंतर 75×60 सेमी और वसंत ऋतु के लिए अंतर 75×45 सेमी रखना आदर्श माना जाता है।

टमाटर की खेती के लिए खाद – –

खेती के लिए जमीन की तैयारी के वक्त प्रति 20-25 टन प्रति हेक्टेयर अच्छी फार्म की खाद या कम्पोस्ट को मिट्टी में सही तरह से मिलाना चाहिए। 75:40:25 किलो एन:पी 2ओ5 रेशियो के2ओ प्रति हेक्टेयर खाद दिया जाना चाहिए। पौधारोपण के पहले नाइट्रोजन की आधी मात्रा, फास्फोरस की पूरी मात्रा और पोटास की आधी मात्रा दी जानी चाहिए। पौधारोपण के 20 से 30 दिनों के बाद एक चौथाई नाइट्रोजन और पोटाश की आधी मात्रा दी जानी चाहिए। बाकी बची मात्रा पौधारोपण के दो माह बाद दी जानी चाहिए।

टमाटर की रोपाई- –

  • टमाटर का पौधारोपन एक छोटे से समतल जमीन या फिर कम खुदाई कर की जानी चाहिए, साथ इसमे सिंचाई की उपलब्धता का भी ध्यान रखना होगा।
  • आमतौर पर भारी मिट्टी वाली जगह पर पौधारोपन रिज यानी ऊंची पहाड़ी इलाके में की जाती है। खासकर बारिश के दौरान ऐसी जगह पर ज्यादा अच्छी फसल होती है।
  • अनिश्चित प्रकार या हाइब्रिड की स्थिति में दो मीटर बांस के डंडे के सहारे पौधारोपन किया जाता है। वहीं, बड़े रिज एरिया में 90 सेमी चौड़ा और 15 सेमी ऊंचाई रखी जाती है।

यहां हल से खींचे गए खांचे या लाइन में लगाए गए पौधे के बीच की दूरी 30 सेमी रखी जाती है।

पौधों के बीच कितनी दूरी हो-

शीत ऋतु में पौधों के बीच 75 गुना 60सेमी की दूरी रखी जाती है। वहीं, ग्रीष्म ऋतु में ये अंतराल 75 गुना 45 सेमी होता है।

नर्सरी की तैयारी और देखभाल- –

टमाटर की बुआई के लिए आदर्श बीज की क्यारी 60 सेमी चौड़ी, 6 से 6 सेमी लंबी और 20 से 25 सेमी ऊंची होनी चाहिए। क्यारी से ढेला

और खूंटी को अच्छी तरह से साफ कर देना चाहिए। अच्छी तरह से छाना हुआ फार्म यार्ड खाद और बालू क्यारी में डालना चाहिए। उसके बाद

उसकी अच्छी तरह से जुताई करें। उसके बाद फाइटोलोन या डिथेन एम-45 को प्रति लीटर पानी में 2 से ढाई ग्राम मिलाकर क्यारी में डाल दें

उसके बाद क्यारी के समानांतर 10 से 15 सेमी की लाइन खीचें। उसके बाद बीज उस लाइन में लगा दें, हल्का दबायें, साफ बालू से ढंक दें और

अंत में फूस से ढंक दें। रोजकेन से सिंचाई करें। बीज की क्यारी को प्रति दिन दो बार तब तक सींचते रहें जब तक अंकुरण न हो जाए। बीज के

अंकुरण के बाद फूस को हटा दें। जब चार-पांच पत्ते आ जाए तो थोड़ा थिमेट का इस्तेमाल करें। दो से ढाई एमएल प्रति लीटर पानी में मेटासिसटोक्स या थियोडेन और डिथेन एम-45 के साथ अंकुरित बीज का छिड़काव करें।

खर-पतवार का नियंत्रण

  • पौधारोपन के चार सप्ताह के दौरान हल्की निराई-गुड़ाई जरूरी होता है ताकि खेत से खर-पतवार को निकाला जा सके। प्रत्येक सिंचाई के बाद जब मिट्टी सूखती है तब खुरपी की मदद से मिट्टी को ढीला किया जाता है। इस दौरान जितना भी घास-फूस होता है उसे ठीक से निकाल देना चाहिए।
  • फूस के साथ आधी सड़ी हुई घास, काली पॉलीथिन और दूसरे तत्व नमी बनाए रखने, खर-पतवार नियंत्रण और बीमारियों से बचाव में सहायक होते हैं।

टमाटर खेती के लिए खाद

Tomato2टमाटर के अच्छे उत्पादन के लिए जरूरत के हिसाब से अच्छे खाद का संतुलित तरीके से प्रयोग किया जाता है। टमाटर के लिए नाइट्रोजन बहुत जरूरी है क्योंकि इसकी पर्याप्त मात्रा से ही इसकी गुणवत्ता, आकार, रंग और स्वाद निखरता है। इससे ही टमाटर के अंदर मनमाफिक खट्टापन भी आता है। पौधे की वृद्धि, पैदावार और गुणवत्ता के लिए पोटैशियम की पर्याप्त मात्रा भी उतनी ही जरूरी है। अंकुरण और पौधारोपन के दौरान पौधे में फोस्फोरस की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के लिए शुरुआती तौर पर मोनो अमोनियम फॉस्फेट (एमएपी) जरूरी होता है। मिट्टी में अम्लीयता या क्षारीयता और पोषक तत्वों को नियंत्रित करने में कैल्सियम की उपलब्धता भी जरूरी है। जरूरी पोषक तत्वों के लिए बलुई मिट्टी में उच्च क्षमता वाली खाद की जरूरत पड़ती है। पौधारोपन से पहले प्रति हेक्टेयर 50 टन फार्म यार्ड खाद डाला जाना चाहिए। सामान्यतौर पर टमाटर की खेती 120 किलो नाइट्रोजन(एन), 50 किलो फॉस्फोरस(पी2ओ5), और 50 किलो पोटास(के2ओ) जरूरी होता है। नाइट्रोजन को अलग-अलग डोज में दिया जाना चाहिए। पौधारोपन के दौरान आधा नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की पूरी मात्रा और बाकी बचा नाइट्रोजन 30 दिन और 60 दिन के बाद दिया जाता है। पौधे में पोषक तत्व की मात्रा सही मात्रा और अनुपात में है या नहीं इसके लिए मिट्टी और उत्तक का विश्लेषण शुरु से अंत तक होते रहना चाहिए।

पोषक तत्वों से भरपूर पौधे का उत्तकीय विश्लेषण निम्न प्रकार का होता है—नाइट्रोजन      फॉस्फोरस       पोटैशियम      कैल्सियम    मैग्निशियम  सल्फर  प्रतिशत 4.0-5.6          0.30-0.60           3.0-4.5            1.25-3.20   40.65        0.65-1.4

पीपीएम    मैंगनीज       आइरन          बोरोन         कॉपर         जिंक

30-400          30-300                20-60             5-15              30-90

अंत में अहम बात यह कि मौजूदा दौर में अकार्बनिक खाद का प्रयोग नवीकरणीय, पर्यावरण फ्रैंडली कार्बनिक खाद, हरी खाद और बची हुई फसलीय अवशेषों के साथ करने पर बेहतर परिणाम मिल रहे हैं और टमाटर की खेती फायदे का व्यवसाय साबित हो रही है।

COMMENTS

Share This: