इफको ने किसानों को सस्ती और सुविधाजनक प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने हेतु ‘ग्रामीण हेल्थ केयर’ के साथ समझौता किया है।

वर्ष 2020 तक इफको बाजार के अन्तर्गत 1000 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा 100 अन्य नर्सिंग होम खोलने की योजना है।

7 अप्रैल, नई दिल्लीः उर्वरक क्षेत्र की दुनिया की सबसे बड़ी सहकारी संस्था, इंडियन फारमर्स फर्टिलाईजर कोआपरेटिव लिमिटेड (इफको) ने किसानों को सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ‘ग्रामीण हेल्थ केयर’ में नीतिगत निवेश किया है। इससे देशभर में एक अनूठा ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा नेटवर्क तैयार होगा और किसानों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकेंगी। इस प्रयास से वर्ष 2020 तक 1 करोड़ से भी अधिक ग्रामीण आबादी को लाभ मिल सकेगा।

‘ग्रामीण हेल्थ केयर’ एक ऐसी पहल है जिसका उद्देश्य देश के वंचित समुदायों तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाना है। इसके अन्तर्गत योग्य और अनुभवी पेशेवर ‘स्टीडफास्ट टेली मेडिसिन तकनीक प्लेटफार्म’ के जरिए आम जन तक अपनी सेवाएं पहुंचाते हैं। 

GHC1भारत में स्वास्थ्य सेवाओं की कमी – भारत में शहरी आबादी की अपेक्षा ग्रामीण आबादी में चिकित्सकों का अनुपात 6 गुना कम है। 30 फीसदी ग्रामीण आबादी को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए 30 किलोमीटर तक का सफर तय करना पड़ता है। इफको का यह प्रयास है कि ‘ग्रामीण हेल्थ केयर’ के साथ मिलकर इस फासले को कम किया जाए और लोगों को समय से चिकित्सीय परामर्श और डिजिटाईज्ड क्लीनिक के माध्यम से चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जाए। ये प्राथमिक सेवा केन्द्र तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के ग्रामीण इलाकों में इफको बाजार के बिक्रीकेन्द्रों में स्थापित किए जाएंगे। इन केन्द्रों के जरिए समय–समय पर महिला स्वास्थ्य, हृदय की बीमारियों, मधुमेह एवं आँखों की देखभाल की विशेष सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। हर 10 प्राथमिक देखभाल केन्द्रों पर 1 नर्सिंग सेवा केन्द्र होगा, जिसमें जाँचप्रयोगशाला, मूलभूत तथा विशिष्ट नर्सिंग की सुविधाओं के साथ भर्ती की व्यवस्था, विभिन्न किस्म के उपचार व अन्य चिकित्सा कार्यक्रम उपलब्ध होंगे। 

GHC3इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने कहा कि हमारा हर कदम किसानों की बेहतरी के लिए होता है। इस सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य सेवा से किसानों को प्राथमिक स्वास्थ्य के प्रति सचेत एवं जागरूक बनाया जा सकेगा। यह कदम किसानों को उत्तम स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने यह भी कहा कि इफको की स्वर्णजयंती के अवसर पर देशभर में 125 चयनित स्थानों पर विशेष स्वास्थ्य जांच शिविर लगाए जा रहे हैं । किसानों ने इस कदम की भरपूर सराहना की है। 

इफको बाजार के प्रबंध निदेशक श्री मनीष गुप्ता ने कहा कि इफको बाजार के बिक्री केन्द्रों पर आने वाले किसानों के लिए यह एक अच्छी सौगात है। यहाँ किसानों को सामान्य स्वास्थ्य परामर्श और सेवाएं एक ही छत के नीचे उपलब्ध हो सकेंगी।

‘ग्रामीण हेल्थ केयर’ के संस्थापक श्री अजय खंडेरिया ने इस अवसर पर कहा कि ‘‘किसानों और ग्रामीण आबादी के बीच इफको एक भरोसेमंद नाम है, हम साथ मिलकर ऐसा नेटवर्क खड़ा करना चाहते हैं, जिसके जरिए एक ही जगह पर किसानों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराकर उन्हें सशक्त बनाया जा सकेगा। अप्रैल के अन्त तक पश्चिम बंगाल, बिहार, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और हरियाणा में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए साल के अन्त तक हम लगभग 1 करोड़ लोगों तक इसका फायदा पहुंचा सकेंगे।

हम इन सभी केन्द्रों पर स्वास्थ्य कार्ड भी मुहैया कराएंगे। इस नई पहल के माध्यम से किसान और उनके परिवारजन मामूली मासिक शुल्क देकर प्राथमिक चिकित्सा सुविधा का लाभ ले सकेंगे।

COMMENTS

Share This: