Image

Rural Innovation

नीले मक्के, दालचीनी के स्वाद वाली तुलसी ? इस किसान के पास दुर्लभ प्रजाति के ऐसे 560 बीज हैं
2 months ago

नीले मक्के, दालचीनी के स्वाद वाली तुलसी ? इस किसान के पास दुर्लभ प्रजाति के ऐसे 560 बीज हैं

बैंगनी, सफेद और गुलाबी भिंडी, नीली मूंगफली, गोल खीरे और भी बहुत कुछ – बेंगलुरू में तकरीबन ढाई एकड़ में फैले डॉ. प्रभाकर राव का फार्म ऐसे ही अनगिनत वनस्पतियों …
Read More

मशरुम की खेती
4 months ago

मशरुम की खेती

भारत में मशरुम की खेती के बारे में जानकारी-

मशरुम की खेती का प्रचलन भारत में करीब 200 सालों से है। हालांकि भारत में इसकी व्यावसायिक खेती की शुरुआत हाल …
Read More

पंचगव्य की तैयारी और उसका महत्व
4 months ago

पंचगव्य की तैयारी और उसका महत्व

पंचगव्य का परिचय- एक जैव ऊर्वरक

पंचगव्य क्या है?  दरअसल यह एक जैविक खाद या प्राकृतिक सामग्री से बनी जैव बढ़ोत्तरी उत्तेजक औषधि है, पौधे के विकास को बढ़ावा देनेवाला …
Read More

जैविक खाद का उत्पादन करने की विधि।
4 months ago

जैविक खाद का उत्पादन करने की विधि।

कम्पोस्ट या जैविक खाद गोबर से जैविक खाद बनाने की प्रक्रिया परिचय इस लेख में इस बात पर विस्तार से चर्चा की गई है कि आप अपना जैविक खाद गोबर …
Read More

फलियों (बीन्स) की खेती
4 months ago

फलियों (बीन्स) की खेती

बीन्स यानी फलियां लेगुमिनेसी परिवार से संबंध रखती है और अपने हरे फलियों के लिए देश भर में उपजाई जाने वाली सब्जी की एक बहुत महत्वपूर्ण फसल है। फलियों के …
Read More

बेजान ज़मीन में बस गई हरियाली की दुनिया। सूक्ष्म जीव और कृमि ने बदल दिया बंजर का जहां कोलेगल, बेंगलुरु
5 months ago

बेजान ज़मीन में बस गई हरियाली की दुनिया। सूक्ष्म जीव और कृमि ने बदल दिया बंजर का जहां कोलेगल, बेंगलुरु

कौन कहता है आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों..’ और सचमुच तबियत से उछाले गए इस किसान के हर पत्थर ने सूक्ष्म जीव और कृमि …
Read More

फसलों का अवशेष प्रबंधन :  अतिरिक्त कमाई के साथ प्रदूषण से भी मुक्ति
5 months ago

फसलों का अवशेष प्रबंधन : अतिरिक्त कमाई के साथ प्रदूषण से भी मुक्ति

फसलों की कटाई के मौसम में इस प्रकार की खबरें प्राय अखबारों की सुर्खियां बनती आपने भी देखी होंगी.. फसलों के अवशेष को जलाने पर सरकार ने जताई चिंता, किसानों …
Read More

तमिलनाडु का एक ग्रामीण महज 800 रुपये में जैविक खाद की फैक्ट्री स्थापित कर किसानों की कर रहा है मदद
9 months ago

तमिलनाडु का एक ग्रामीण महज 800 रुपये में जैविक खाद की फैक्ट्री स्थापित कर किसानों की कर रहा है मदद

इरोड (तमिलनाडु) :

अधिकांश किसानों को पौधों के विकास के लिए अनिवार्य माने जाने वाले नाइट्रोजन और फास्फोरस जैसे खाद की बुनियादी जानकारी होती है। वो इस तथ्य से भी …
Read More

An e-platform to empower rural India
Would you like to stay updated about latest
agricultural information from Rural India?