आइये आज हम मुर्रा भैंस पर आधारित एक परियोजना रिपोर्ट पर चर्चा करें। यह रिपोर्ट डेयरी फार्मिंग में 50 मुर्रा भैंस पर आधारित है। इस रिपोर्ट में भारत में 50 मुर्रा भैंस और सब्सिडी यानी छूट, बैंक लोन और मुनाफा सभी शामिल हैं। निम्न डेयरी परियोजना रिपोर्ट मुर्रा भैंस डेयरी के सफल फार्मिंग में निम्न अनुमानों पर आधारित हैः-

  • ताजा बच्चे को जन्म देनेवाली मुर्रा भैंसे जो पहली या दूसरी बार दूध दे रही हैं उन्हें 25 पशुओं के समूह के दो बैच में खरीदना चाहिए।
  • प्रत्येक बैच को 5 से 6 महीने के अंतराल पर खरीदना चाहिए।
  • इस बात को सुनिश्चित करें कि हरे चारे के लिए 9 से 10 एकड़ जमीन हो।
  • हरे चारे की खेती के लिए भैंस के गोबर का इस्तेमाल बतौर जैविक ऊर्वरक खाद होता है।
  • बछड़ों के पालन-पोषण के खर्च पर ध्यान नहीं दिया जाता है क्योंकि बाद में बेचने पर इसका खर्च निकल आता है।
  • अगर वयस्क पशु यानी मुर्रा भैंस की मौत हो जाती है तो इन्शोरेंस के पैसे से उसकी जगह नए भैंस की खरीद की जाएगी।
  • बछिया का इस्तेमाल स्थानापन्न भंडार के तौर पर किया जाता है।

नोटः- क्षेत्र, मौजूदा बाजार की कीमतों और दूसरे कारकों की वजह से वास्तविक राशि में बदलाव आ सकता है।

पशु के प्रकार  (नस्ल) मुर्रा नस्ल
मुर्रा भैंस की संख्या 50
जवान भैंसों के समूह के लिए जगह (ईंच में) 15
प्रत्येक फर्श के निर्माण का खर्च 250
मुर्रा भैंस की कीमत (परिवहन खर्च सहित) 55,000 (इसमे उम्र समेत कई दूसरे तत्व भी शामिल होते हैं)
मुर्रा भैंस की प्रतिदिन दूध देने की क्षमता 14 से 15 लीटर
जवान पशुओं के लिए छतदार जगह 30 से 35 वर्ग फीट
जवान मुर्रा भैंस के लिए खुली जगह 90 से 100 वर्ग फीट
प्रति मुर्रा भैंस के लिए जगह की लंबाई 25 ईंच
प्रति बछड़े के लिए छतदार फर्श की जगह 15 वर्ग फीट
प्रति बछड़े के लिए खुली फर्श की जगह 50 वर्ग फीट
जगह प्रति बछड़े का भंडार 15 ईंच
ऑफिस और फर्श के निर्माण का खर्च 250 वर्ग फीट
निर्माण खर्च 200 रुपए प्रति वर्ग फीट
दूध दूहने की मशीन और सहायक सामग्री का खर्च 4,30,000 रुपये
प्रति भैंस दूसरे सामान का खर्च 1,000 रुपए
हरे चारे का प्रति सीजन, प्रति एकड़ खर्च 5,000 रुपए
प्रति भैंस प्रति साल पशु चिकित्सा का खर्च 1,000 रुपए
इंश्योरेंस प्रीमियम 5 फीसदी प्रति वर्ष
सूखे चारे का खर्च एक रुपये प्रति किलो
गाढ़े चारे की कीमत 12 रुपए प्रति किलो
ब्याज दर 12 फीसदी
पुनर्भुगतान की अवधि 6 साल
प्रति लीटर दूध की कीमत 24 रुपये
टाट के बैग की कीमत 10 रुपये
दूध निकालने की अवधि 270 दिन
सूखा की अवधि यानी जब दूध नहीं होता 150 दिन

डेयरी परियोजना रिपोर्ट : भोजन (प्रतिदिन) और प्रति मुर्रा भैंस की खर्च तालिका

दूध निकलने के दौरान           जब दूध नहीं निकलता है

खाने का सामान खाने का खर्च प्रति किलो मात्रा प्रति किलो खर्च रुपए में मात्रा प्रति किलो खर्च रुपए में
गाढ़ा या सान्द्र भोजन 12 6.5 78 1 12
हरा चारा 1 25 अपने खेत में तैयार किया गया 20 अपने खेत में तैयार किया गया
सूखा चारा 2 6 12 5 10
कुल खर्च 90 रुपये 22 रुपये

 

डेयरी परियोजना रिपोर्टः परियोजना खर्च और बैंक लोन संबंधी जानकारी

परियोजना लागत राशि रुपये में
पूंजी लागत
50 भैंसों के लिए छतदार क्षेत्र, 200 वर्गफीट में 30 वर्ग फीट प्रति भैंस 3,00,000
50 बछड़ों के लिए छतदार क्षेत्र, 200 वर्गफीट में 15वर्ग फीट प्रति बछड़ा 1,50,000
चहारदीवारी और मेंजर के लिए खुली जगह का निर्माण खर्च 2,50,000
भंडार कक्ष के निर्माण पर खर्च 250 वर्ग फीट पर 200वर्ग फीट के लिए 50,000
ऑफिस और मार्केटिंग कमरे के निर्माण का खर्च 250वर्ग फीट पर 250 वर्ग फीट के लिए 62,000
50 मुर्रा भैंसे, प्रतिदिन की दर से प्रति भैंस 15 लीटर औसत दूध, प्रति भैंस की कीमत 55000 रुपये (परिवहन खर्च के साथ) 27,50,000
जेनरेटर सेट का खर्च 80,000
दूध निकालने की मशीन,अतिरिक्त सामग्री और लगाने का खर्च 4,30,000
डेयरी उपकरण खर्च प्रति पशु एक हजार की दर से 50,000
500 लीटर की क्षमता वाले विशाल कूलर पर खर्च 2,70,000
बोरवेल और पंप सेट पर खर्च 70,000
बिजली संबंधी खर्च 30,000
उपरी टैंक और पाइपलाइन का खर्च 70,000
– हरे और सूखे चारे को काटने वाली मशीन 90,000
कुल खर्च 46,52,500

डेयरी परियोजना रिपोर्टः बार-बार आने वाले खर्च का ब्योराः

सामान का ब्यौरा खर्च रुपये में
उपर वर्णित भोजन के चार्च के मुताबिक 25 भैसों के बैच का खर्च (एक महीना) 67,000
25 भैंसों पर 5 फीसदी भैंसों के खर्च के साथ इन्शोरेंस खर्च 68,750
एक मौसम के दौरान 10 एकड़ क्षेत्र में उगाए जाने वाले हरे चारे पर खर्च 50,000
टीकाकरण और दवाइयों, बिजली पर पहले महीने आने वाला खर्च 10,000
आकस्मिक (दुर्घटना के दौरान होनेवाला खर्च) 11,250
बार-बार होने वाला कुल खर्च 2,07,500
परियोजना पर कुल खर्च (परियोजना खर्च,बार-बार होने वाला कुल खर्च) 46,52,500+2,07,500 = 48,60,000
मार्जिन राशि (आरबीआई के निर्देश के अनुसार एक लाख के फाइनेंस तक कोई मार्जिम मनी नहीं लगता) 12,15,000
बैंक लोनः 100 फीसदी परियोजना खर्चः 36,45,000

 

नोटः उपर वर्णित डेयरी परियोजना रिपोर्ट सिर्फ एक सैंपल मॉडल है।

COMMENTS

Share This: